दीपावली कब है? दीपावली 2021 शुभपूजा और मुहूर्त

हिंदू धर्म में दीपावली एक बहुत बड़ा त्यौहार है| इस दिन काफी सारी दीपक जलाए जाते हैं, और परिवार में खुशियां मनाई जाती है| आइए जानते हैं दीपावली कब है? जैसे ही दशहरे का मेला खत्म होता है, उसके 20 दिनों बाद दीपावली मनाई जाती है|

इस बार दशहरा 15 अक्टूबर 2021 को मनाया जाएगा और उसके बाद दीपावली और छठ का त्यौहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाएगा| हिंदू धर्म में यह सभी त्यौहार एक साथ थोड़े समय अंतराल के साथ आते हैं|

Must Read- दशहरा पूजा 2021 कब है? दशहरा पूजा का महत्व

दीपावली का त्यौहार

भगवान श्रीराम ने जब रावण को मारा था| उसके बाद वह अयोध्या वापस आए थे अपने 14 साल के वनवास को पूरा करके| उसकी खुशी में पूरे अयोध्या में दीपक जलाए और पूरे शहर को अच्छी तरह से सजाया था| इसी को दिवाली के रूप में मनाया जाता है|

कहीं पर इसको दीपावली भी कहा जाता है| दीपावली का मतलब है दीपों का त्यौहार| आइए जानते हैं दीपावली दीपावली कब है? कब शुभ मुहूर्त है और दीपावली का इतिहास क्या है?

दिवाली कब है?

हिंदू मान्यता और पंचांग के अनुसार दीपावली कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को होती है| इस दिन माता लक्ष्मी और भगवान श्री गणेश जी की पूजा करते हैं| इस बार दीपावली का त्यौहार कार्तिक महीने की अमावस्या को पड़ रहा है| 4 नवंबर 2021 को दीपावली का त्यौहार मनाया जाएगा|

दीपावली का त्यौहार 4 नवंबर सुबह 6:33 से प्रारंभ होगा और 5 नवंबर सुबह 2:44 तक रहेगा| इस बीच में हम पूजा अर्चना कर सकते हैं|

दीपावली 2021 शुभपूजा और मुहूर्त

दीपावली के दिन हम माता लक्ष्मी और गणेश भगवान की पूजा करते हैं| इस दिन शुभ मुहूर्त पूजा का 4 नवंबर शाम 6:09 से प्रारंभ होगा और शाम को 8:20 तक रहेगा| प्रदोष काल भी इसी दिन शाम 5:34 से शुरू होगा और इसी दिन शाम को 8:10 तक रहेगा|

14 नवंबर को ही वृषभ काल शाम के 6:10 से स्टार्ट होगा और इसी दिन शाम के 8:10 तक रहेगा| चौघड़िया मुहूर्त में माता लक्ष्मी जी का पूजन 14 नवंबर को सुबह 6:34 से प्रारंभ होगा और शाम को 7:57 तक रहेगा| फिर अगले दिन सुबह 10:45 से स्टार्ट होगा और दोपहर के 2:49 तक रहेगा|

माता लक्ष्मी जी का पूजा मुहूर्त 14 नवंबर शाम 4:11 से शुरू होगा और उसी दिन शाम को 8:49 तक रहेगा| रात में माता लक्ष्मी जी और गणेश जी की पूजा का शुभ मुहूर्त 14 नवंबर को रात 12:04 से शुरू होगा और रात को 1:42 तक रहेगा|

लक्ष्मी और गणेश जी की पूजा विधि

दीपावली के दिन हम माता लक्ष्मी और गणेश भगवान की पूजा अर्चना करते हैं| इस दिन हमें स्वच्छ कपड़े पहनने चाहिए और नहा धोकर पूजा अर्चना करनी चाहिए| इस दिन लक्ष्मी जी की आरती और लक्ष्मी जी का मंत्र उच्चारण पूजा के समय करना चाहिए|

गरीबों को दान करने का भी इस दिन विशेष महत्व है| आप दान के रुप में मिठाईयां पैसे दे सकते हैं|

दीपावली का इतिहास

दीपावली को मनाने के पीछे कई सारी प्राचीन कथाएं हैं| पहली कथा में जब भगवान श्री राम रावण का वध करते अयोध्या वापस आते हैं| अयोध्या में दीपक जलाए जाते हैं और पूरे अयोध्या को सजाया जाता है| सभी लोग हर्ष उल्लास से इस त्योहार को मनाते हैं| कुछ लोगों का मानना है कि दीपावली इसी दिन को याद करके मनाया जाता है|

दूसरी प्राचीन कथा के अनुसार इस दिन कार्तिक महीने की अमावस्या को माता लक्ष्मी जी श्री छीर सागर में प्रकट हुई थी| इसीलिए दीपावली का त्यौहार मनाया जाता है|

दीपावली को मनाने से पहले लोग अपने घरों की साफ सफाई करते हैं| और घरों की सजावट करते हैं| दीपावली से काफी दिन पहले यह सभी काम शुरू हो जाते हैं| दीपावली के दिन पूजा अर्चना और दीपक जलाए जाते हैं| इसे रोशनी का त्योहार भी कहा जाता है| उम्मीद है आपको जानकारी अच्छी लगी|

(Visited 1 times, 1 visits today)