क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है Cloud Computing की पूरी जानकारी हिंदी में

क्लाउड कंप्यूटिंग क्या है? क्लाउड कंप्यूटिंग की पूरी जानकारी हिंदी में| अभी तक हम कंप्यूटर या लैपटॉप में कोई भी काम करते थे, या कोई भी डाटा अपने हार्ड डिस्क में स्टोर करके रखते थे| जब भी हमें इसे दोबारा ओपन करके देखना होता था, तो हम अपने कंप्यूटर खोलते हैं और इन फाइलों और डाटा को Edit or देख सकते हैं| लेकिन आप कल्पना कीजिए कि आपका कंप्यूटर और लैपटॉप घर पर रखा हुआ है, और आप कहीं दूर गए हुए हैं| वहां पर आपको इन फाइलों में कुछ एडिट करना है, और इन फाइलों को देखना है, तो आप क्या करेंगे? यहीं पर अविष्कार हुआ Cloud Computing का|

Cloud Computing की सहायता से आप अपने पर्सनल कंप्यूटर और लैपटॉप में सेव फाइल में, कहीं भी बैठकर क्लाउड कंप्यूटिंग की मदद से एडिट या चेंज कर सकते हैं| इसकी वजह से ही क्लाउड कंप्यूटिंग काफी ज्यादा फेमस हो गया| इस समय क्लाउड कंप्यूटिंग का काफी बोलबाला है| लेकिन आज भी लोगों को क्लाउड कंप्यूटर कंप्यूटिंग के बारे में ज्यादा नॉलेज नहीं है| इसका सीधा सा मतलब है कि आपका लैपटॉप और डेक्सटॉप अगर आपके पास नहीं है, तो भी आप अपने किसी भी डॉक्यूमेंट में एडिट और चेंज कर सकते हैं| इसका मतलब यह हुआ कि, आपका यह सारा डॉक्यूमेंट इंटरनेट पर उपलब्ध होगा| आप कहीं भी इंटरनेट की मदद से अपने डॉक्यूमेंट को खोल सकते हैं, और उसको एडिट चेंज कर सकते हैं|

अब आपको समझना है, जैसे आपकी कंप्यूटर या लैपटॉप में उससे जुड़ी हुई रिलेटेड सॉफ्टवेयर इंस्टॉल होते हैं, वैसे ही क्लाउड कंप्यूटिंग में सॉफ्टवेयर इंस्टॉल रहते हैं| जिनको आप किसी भी देश, ब्राउज़र की मदद से, कहीं भी आसानी से खोल सकते हैं| यहां तक कि क्लाउड कंप्यूटिंग के माध्यम से आप अपने मोबाइल से भी यह सारे काम कर सकते हैं| जैसे कि किसी भी डॉक्यूमेंट को एडिट करना और किसी भी डॉक्यूमेंट में चेंज करना|

Cloud Computing उदाहरण

अगर Cloud Computing को समझना है, तो आपको इस उदाहरण से समझना होगा- जैसे कि अगर आपके पास कोई भी ईमेल आईडी होती है, और आपकी ईमेल आईडी पर काफी सारा डाटा होता है| वह क्लाउड कंप्यूटिंग पर ही स्टोर होता है| इसका मतलब यह है कि आप किसी की फोन, लैपटॉप, डेक्सटॉप या कहीं से भी अपने E-mail को खोल सकते हैं| और जो भी चीजें आपके मेल पर हैं उसे देख सकते हैं एडिट कर सकते हैं और डाउनलोड कर सकते हैं| काफी सारे लोग मेल पर ही अपना डॉक्यूमेंट, रिज्यूमे और महत्वपूर्ण फोटो रखते हैं| जिसको कहीं से भी ई-मेल की सहायता से खोल लेते हैं, और एडिट करके किसी को भी भेज सकते हैं| कुछ इसी तरह का क्लाउड कंप्यूटिंग भी काम करता है|

मेरी वेबसाइट Technsocial.com भी क्लाउड कंप्यूटिंग का हिस्सा है| अभी मैं सो रहा हूं, लेकिन आप मेरी वेबसाइट को सही तरीके से खोल पा रहे हैं कहीं से भी और कभी भी| ऐसा इसलिए हो रहा है कि मेरा जो भी वेबसाइट है, और जो भी उस पर कंटेंट है, वह क्लाउड कंप्यूटिंग पर स्टोर है| जिसकी वजह से 24 घंटे आप मेरी वेबसाइट को देख सकते हैं| इसीलिए आप मोबाइल फोन, लैपटॉप, डेस्कटॉप किसी भी माध्यम से मेरी वेबसाइट को खोल सकते हैं| अगर मैं भी कहीं घर से दूर हूं तो, मैं भी कहीं पर भी किसी के भी मोबाइल में अपने वेबसाइट को खोल सकता हूं| और किसी भी पोस्ट और आर्टिकल को एडिट कर सकता हूं, और डिलीट कर सकता हूं| यह सब संभव है क्लाउड कंप्यूटिंग की मदद से|

क्लाउड कंप्यूटिंग से क्या फायदा है

क्लाउड कंप्यूटिंग से बहुत सारे फायदे हैं| यहां पर कम खर्चे में आप ज्यादा काम कर सकते हैं, साथ ही आपको यहां पर इंटरनेट स्पीड भी अच्छी मिलती है| आपको अपना कोई भी डिवाइस कहीं भी ले जाने की जरूरत नहीं पड़ती| इंटरनेट की मदद और अच्छे सरवर की मदद से आप क्लाउड कंप्यूटिंग का फायदा हर जगह उठा सकती है| क्लाउड कंप्यूटिंग में अलग-अलग कैटेगरी होती है| अगर आपको ज्यादा स्पीड और ज्यादा Software/Utility इस्तेमाल करनी है, तो उसके लिए आपको ज्यादा पैसे देने पड़ेंगे|

जैसे कि अगर मुझे केवल एक वेबसाइट चलानी है, तो मुझे कम पैसे देने होंगे| लेकिन यदि मुझे 10 वेबसाइट चलानी है, तो क्लाउड कंप्यूटिंग के लिए मुझे ज्यादा पैसे खर्च करने होंगे| यह आप पर डिपेंड है, कि आप क्लाउड कंप्यूटिंग का क्या इस्तेमाल करें| उम्मीद है आप अब जान गए होंगे कि “Cloud Computing kya Hai” और क्लाउड कंप्यूटिंग के फायदे क्या है|

(Visited 3 times, 1 visits today)

Leave a comment